सायों को गले लगा रहा हूँ!

आया न ‘क़तील’ दोस्त कोई,
सायों को गले लगा रहा हूँ|

क़तील शिफ़ाई

3 Comments

Leave a Reply