अभी ख़्वाब छुपाने नहीं आते!

पलकें भी चमक उठती हैं सोते में हमारी,
आँखों को अभी ख़्वाब छुपाने नहीं आते|

बशीर बद्र

Leave a Reply