बादल तिरी ज़ुल्फ़ों की तरह हैं!

इस शहर के बादल तिरी ज़ुल्फ़ों की तरह हैं,
ये आग लगाते हैं बुझाने नहीं आते|

बशीर बद्र

Leave a Reply