यहाँ रात जगाने नहीं आते!

दिल उजड़ी हुई एक सराए की तरह है,
अब लोग यहाँ रात जगाने नहीं आते|

बशीर बद्र

Leave a Reply