समुंदर के ख़ज़ाने नहीं आते!

होंठों पे मोहब्बत के फ़साने नहीं आते,
साहिल पे समुंदर के ख़ज़ाने नहीं आते|

बशीर बद्र

Leave a Reply