उसकी आँखों में हैरत ज़ियादा थी!

तअज्जुब में तो पड़ता ही रहा है आइना अक्सर,
मगर इस बार उसकी आँखों में हैरत ज़ियादा थी|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply