नया इम्तिहान बाक़ी है!

इम्तिहाँ से गुज़र के क्या देखा,
इक नया इम्तिहान बाक़ी है|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply