किताब के अंदर कहीं कहीं हूँ मैं!

वो इक किताब जो मंसूब तेरे नाम से है,
उसी किताब के अंदर कहीं कहीं हूँ मैं|

राहत इन्दौरी

2 Comments

Leave a Reply