ढूँड रहे हैं जहाँ नहीं हूँ मैं!

अजीब लोग हैं मेरी तलाश में मुझको,
वहाँ पे ढूँड रहे हैं जहाँ नहीं हूँ मैं|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply