ऐसा रह रह के पुकारा कौन करे!

‘मुल्ला’ का गला तक बैठ गया बहरी दुनिया ने कुछ न सुना,
जब सुनने वाला हो ऐसा रह रह के पुकारा कौन करे|

आनंद नारायण मुल्ला

Leave a Reply