गुलशन की तमन्ना कौन करे!

जब दिल था शगुफ़्ता गुल की तरह टहनी काँटा सी चुभती थी,
अब एक फ़सुर्दा दिल लेकर गुलशन की तमन्ना कौन करे|

आनंद नारायण मुल्ला

Leave a Reply