तिनकों पे भरोसा कौन करे!

जब अपना दिल ख़ुद ले डूबे औरों पे सहारा कौन करे,
कश्ती पे भरोसा जब न रहा तिनकों पे भरोसा कौन करे|

आनंद नारायण मुल्ला

Leave a Reply