साहिल का इरादा कौन करे!

कश्ती मौजों में डाली है मरना है यहीं जीना है यहीं,
अब तूफ़ानों से घबरा कर साहिल का इरादा कौन करे|

आनंद नारायण मुल्ला

Leave a Reply