नद्दी कोई बल खाए तो लगता है!

ओढ़े हुए तारों की चमकती हुई चादर,
नद्दी कोई बल खाए तो लगता है कि तुम हो|

जाँ निसार अख़्तर

Leave a Reply