फ़क़त आग बुझाने के लिए हैं!

सोचो तो बड़ी चीज़ है तहज़ीब बदन की,
वर्ना ये फ़क़त आग बुझाने के लिए हैं|

जाँ निसार अख़्तर

Leave a Reply