फ़क़त दीप जलाने के लिए हैं!

देखूँ तिरे हाथों को तो लगता है तिरे हाथ,
मंदिर में फ़क़त दीप जलाने के लिए हैं|

जाँ निसार अख़्तर

Leave a Reply