महकती हुई पुर-कैफ़ हवा का!

संदल से महकती हुई पुर-कैफ़ हवा का,
झोंका कोई टकराए तो लगता है कि तुम हो|

जाँ निसार अख़्तर

Leave a Reply