रात गए कोई किरन मेरे बराबर!

जब रात गए कोई किरन मेरे बराबर,
चुप-चाप सी सो जाए तो लगता है कि तुम हो|

जाँ निसार अख़्तर

Leave a Reply