लचक जाए तो लगता है कि तुम हो!

जब शाख़ कोई हाथ लगाते ही चमन में,
शरमाए लचक जाए तो लगता है कि तुम हो|

जाँ निसार अख़्तर

Leave a Reply