ज़ेहन की बस्ती में आग ऐसी लगी!

हमारे ज़ेहन की बस्ती में आग ऐसी लगी,
कि जो था ख़ाक हुआ इक दुकान बाक़ी है|

जावेद अख़्तर

Leave a Reply