दर्द ज़रा सा निशान बाक़ी है!

वो ज़ख़्म भर गया अर्सा हुआ मगर अब तक,
ज़रा सा दर्द ज़रा सा निशान बाक़ी है|

जावेद अख़्तर

Leave a Reply