न पूछा दिल पे ऐसी ख़राश क्यूँ है!

कोई अगर पूछता ये हमसे बताते हम गर तो क्या बताते,
भला हो सबका कि ये न पूछा कि दिल पे ऐसी ख़राश क्यूँ है|

जावेद अख़्तर

Leave a Reply