बात ख़त्म हुई दास्तान बाक़ी है!

ज़रा सी बात जो फैली तो दास्तान बनी,
वो बात ख़त्म हुई दास्तान बाक़ी है|

जावेद अख़्तर

Leave a Reply