इख़्लास समझते हो ‘फ़राज़!

तुम तकल्लुफ़ को भी इख़्लास समझते हो ‘फ़राज़,’
दोस्त होता नहीं हर हाथ मिलाने वाला|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply