तिरे साथ एक दुनिया थी!

हुआ है तुझ से बिछड़ने के बा’द ये मा’लूम,
कि तू नहीं था तिरे साथ एक दुनिया थी|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply