असीरों को ऐसी रिहाई न दे!

ग़ुलामी को बरकत समझने लगें,
असीरों को ऐसी रिहाई न दे|

बशीर बद्र

Leave a Reply