जी भर के देखा न कुछ बात की!

न जी भर के देखा न कुछ बात की,
बड़ी आरज़ू थी मुलाक़ात की|

बशीर बद्र

Leave a Reply