रहे सामने और दिखाई न दे!

ख़ुदा ऐसे एहसास का नाम है,
रहे सामने और दिखाई न दे|

बशीर बद्र

Leave a Reply