ये दर्द जागता क्यूँ है!

कहानियों की गुज़रगाह पर भी नींद नहीं,
ये रात कैसी है ये दर्द जागता क्यूँ है|

राही मासूम रज़ा

Leave a Reply