कभी क़तरा है बहुत!

तिश्नगी के भी मक़ामात हैं क्या क्या यानी,
कभी दरिया नहीं काफ़ी कभी क़तरा है बहुत|

कृष्ण बिहारी ‘नूर’

Leave a Reply