अपना सूरज वो उठा लेता है!

क़द से बढ़ जाए जो साया तो बुरा लगता है,
अपना सूरज वो उठा लेता है हर शाम के बाद|

कृष्ण बिहारी ‘नूर’

Leave a Reply