कोई शजर शाम के बाद!

तुम न कर पाओगे अंदाज़ा तबाही का मिरी,
तुमने देखा ही नहीं कोई शजर शाम के बाद|

कृष्ण बिहारी ‘नूर’

Leave a Reply