बहुत अपने से डर शाम के बाद!

यही मिलने का समय भी है बिछड़ने का भी,
मुझको लगता है बहुत अपने से डर शाम के बाद|

कृष्ण बिहारी ‘नूर’

Leave a Reply