मेहरबानी है मेहरबानी है!

बे-नियाज़ाना सुन लिया ग़म-ए-दिल,
मेहरबानी है मेहरबानी है|

फ़िराक़ गोरखपुरी

Leave a Reply