या तिरा शोला-ए-जवानी है!

शोला-ए-दिल है ये कि शोला-साज़,
या तिरा शोला-ए-जवानी है|

फ़िराक़ गोरखपुरी

Leave a Reply