वो कभी रंग वो कभी ख़ुशबू!

वो कभी रंग वो कभी ख़ुशबू,
गाह गुल गाह रात-रानी है|

फ़िराक़ गोरखपुरी

Leave a Reply