और अगर रोइए तो पानी है!

ज़ब्त कीजे तो दिल है अँगारा,
और अगर रोइए तो पानी है|

फ़िराक़ गोरखपुरी

Leave a Reply