तेरी उठती हुई जवानी है!

सर-ब-सर ये फ़राज़-ए-मह्र-ओ-क़मर,
तेरी उठती हुई जवानी है|

फ़िराक़ गोरखपुरी

Leave a Reply