दिल उसी ग़म की राजधानी है!

दोनों आलम हैं जिसके ज़ेर-ए-नगीं,
दिल उसी ग़म की राजधानी है|

फ़िराक़ गोरखपुरी

Leave a Reply