क्या तिरी आँख की जवानी है!

मय-कदों के भी होश उड़ने लगे,
क्या तिरी आँख की जवानी है|

फ़िराक़ गोरखपुरी

Leave a Reply