ज़िंदगी हिज्र की कहानी है!

मुझसे कहता था कल फ़रिश्ता-ए-इश्क़,
ज़िंदगी हिज्र की कहानी है|

फ़िराक़ गोरखपुरी

2 Comments

Leave a Reply