बद-गुमानी सी बद-गुमानी है!

कोई इज़हार-ए-ना-ख़ुशी भी नहीं,
बद-गुमानी सी बद-गुमानी है|

फ़िराक़ गोरखपुरी

Leave a Reply