बूँद में भी वो बे-करानी है!

बहर-ए-हस्ती भी जिसमें खो जाए,
बूँद में भी वो बे-करानी है|

फ़िराक़ गोरखपुरी

Leave a Reply