ये भी इक अम्र-ए-आसमानी है!

मिल गए ख़ाक में तिरे उश्शाक़,
ये भी इक अम्र-ए-आसमानी है|

फ़िराक़ गोरखपुरी

Leave a Reply