रात है नींद है कहानी है!

कुछ न पूछो ‘फ़िराक़’ अहद-ए-शबाब,
रात है नींद है कहानी है|

फ़िराक़ गोरखपुरी

Leave a Reply