उनमें जाकर मगर रहा न करो!

ख़्वाब होते हैं देखने के लिए,
उनमें जाकर मगर रहा न करो|

मुनीर नियाज़ी

Leave a Reply