ग़म जुदाई में यूँ किया न करो!

इतने ख़ामोश भी रहा न करो,
ग़म जुदाई में यूँ किया न करो|

मुनीर नियाज़ी

Leave a Reply