घर में हूँ या मैं किसी मज़ार में हूँ!

मकाँ है क़ब्र जिसे लोग ख़ुद बनाते हैं,
मैं अपने घर में हूँ या मैं किसी मज़ार में हूँ|

मुनीर नियाज़ी

Leave a Reply