लिखकर मिटा दिया न करो!

उनसे निकलें हिकायतें शायद,
हर्फ़ लिखकर मिटा दिया न करो|

मुनीर नियाज़ी

Leave a Reply