आना जाना नहीं कि तुझसे कहें!

अब तो अपना भी उस गली में ‘फ़राज़’,
आना जाना नहीं कि तुझसे कहें|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply